Report Abuse

Blog Archive

Labels

Labels

Try

Widget Recent Post No.

Pages

Blogroll

About

Skip to main content

What is Migraine? | माइग्रेन (समस्या,समाधान)

What is Migraine? 


आजकल की भागदौड़ भरी जिंदगी में आराम का आभाव, तनाव, अवसाद जैसे कारणों से माइग्रेन रोग होता है। माइग्रेन के दर्द बहुत ही पीड़ा देने वाला दर्द होता है, यह आधे सिर में होता है और फैलता हुआ मुँह में जबड़ो तक जाता है। यह समस्या अधिकतर महिलाओ में ज्यादा देखने को मिलता है।

Migraine, माइग्रेन दर्द,
माइग्रेन का दर्द


पहचान/लक्षण:--

  दृष्टि सम्बन्धी परेशानी जैसे रुक-रुक कर तेज़ रोशनी दिखना, टेढ़ी मेढ़ी रेखाएं दिखना, काले धब्बे दिखना, जी मचलना, उल्टी होना, घुस्सा, त्वचा में चुभन महसूस होना, निम्न रक्तचाप, तेज आवाज से परेशानी, चिड़चड़ापन।
माइग्रेन के दर्द सूर्य के उदय होने के साथ बढ़ता है और सूर्य तो अस्त होते-होते ये भी खत्म हो जाता हैं।

कारण:--

मेडिकल साइन्स के अनुसार जाने तो सिर में खून की नली के फैल जाने से, नर्व फाइबर पर दबाब पड़ता है जिससे केमिकल रिलीस होता है इसके कारण ब्लड नलियो मे सूजन, दर्द का फैलाव होने लगता है, इसमे बहुत तेज दर्द होता है।

अन्य कारण:--

एलर्जी, तेज रोशनी, तेज सुगंध, तेज आवाज, धुंआ, सोने व उठने का गलत समय, बर्थ कन्ट्रोल पिल्स, अनियमित माहवारी, एल्कोहल आदि।

दवाई, दर्द की दवा
Pils
इलाज:--
* तापमान के तेज बदलाव से बचें, सूर्य की एज़ रोशनी से बचें।
*  पानी के सेवन भरपूर करें।
*  सुबह, शाम सैर पर जाएं।
*  भोजन में ओमेगा3, फैटी एसिड को शामिल करें।
*  मैगनीशियम को भोजन में शामिल करें ।
*  सूप, निम्बू पानी, नारियल पानी, जूस, लस्सी का सेवन करे।
*  इसपैक से 10-15मि. सेके।
*  तिल के तेल में एक टुकड़ा दालचीनी, 2 इलाइची, डाल कर गरम करें व सिर की मालिश करें।
*  अदरक का सेवन करें।
*  10-15 मि. अनुलोम विलोम का अभयास करें।
*  3-5 बार भ्रामरी व उद्गीत प्राणायाम का अभयास करे।
*  पित्त से होने वाले सिरदर्द में सुबह खाली पेट गुनगुना  पानी पीकर उल्टी करें।
*  भोजन में चुकंदर, पत्ता गोभी, ककड़ी, गाजर का रस, नारियल पानी, मेथी, बथुआ, अंजीर, आंवला, निम्बू, अनार, सेब संतरा आदि शामिल करे।

परहेज:--
*  एल्कोहल व मांशाहार से दूर रहें।
*  देर से भोजन न करें।
*  मसालेदार भोजन व फ़ास्ट फ़ूड से बचें।
नोट:--
उक्त जानकारी सामान्य ज्ञान के लिए है रोगी डॉक्टर से सलाह ले कर ही उक्त विधि को अपनाएं।

Comments

Post a Comment